एसबीआई की ओर से मिलेगा बिना गारंटी के 4 लाख का लोन, इस तरह से करे लोन के लिए अप्लाई

Sbi personal loan : देश के किसानों को अपने पैरों पर खड़ा होने के लिए केंद्रीय सरकार द्वारा 1998 मे किसान क्रेडिट कार्ड योजना की शुरुआत की गई है। किसान क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत किसानों को बहुत कम ब्याज दरों पर 3 से 4 लाख का ऋण दिया जाता है। कृषि, मत्स्य पालन और पशुपालन क्षेत्रों में किसानों के लिए एक अल्पकालिक ऋण योजना, किसान क्रेडिट कार्ड ऋण योजना वर्ष 1998 में किसान की आर्थिक रूप से मदद करने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई थी।

इस ऋण राशि से किसान अपने व्यवसाय में निवेश कर सकता है साथ ही इस ऋण राशि से वह बीज, भोजन सहित कृषि उपकरण भी खरीद सकता है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य साहूकारों द्वारा किसान की मजबूरी का फायदा उठाकर कर उच्च ब्याज दर पर ऋण देने वाली प्रथा को समाप्त करना है।

अगर आपका बैंक खाता भारतीय स्टेट बैंक मे है तो किसान क्रेडिट कार्ड योजना द्वारा ऋण लेना और भी आसान हो जाएगा। आप बिना बैंक मे आए इस ऋण के लिए अप्लाई कर सकते है।

यह ऋण किसानों के लिए क्यो उपयोगी है


अगर आप किसान है और फ़सलों की सीजन में आप भी किसी बड़े साहूकार के पास कृषि संबधित कार्यो, बुवाई, जुताई एवं खाद के लिए ऋण लेने के लिए जाते हैं तो यह योजना आपको लिए मददगार साबित हो सकती है। केसीसी के माध्यम से कोई भी किसान अल्पकालिक ऋण प्राप्त कर सकता है। इस ऋण के द्वारा प्राप्त राशि से वह कृषि के खर्चों के साथ वह उपकरण खरीदने के लिए भी भुगतान कर सकता है।

अगर इस ऋण को चुकाने की बात की जाए तो किसान फसल कटाई की अवधि के अनुसार ऋण चुका सकता है। इस ऋण की ब्याज दर अन्य ऋणों की ब्याज दर की तुलना में कम है। इस योजना के आने से किसान साहूकारों के शोषण से भी बच सकेंगे।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के लिए योग्यता


किसान क्रेडिट कार्ड देने से पहले बैंकों द्वारा किसान के क्रेडिट इतिहास की जांच की जाती है। इस प्रक्रिया में एक किसान की स्थिति की जाँच की जाती है। फिर उन्हें अपनी आय का एक रिकॉर्ड प्रदान करने के लिए कहा जाएगा। बैंक पहचान के लिए किसान का आधार नंबर, पैन नंबर और फोटो लेंगे। इसके बाद एक हलफनामा दिया जाएगा जिसमें कहा जाएगा कि किसी अन्य बैंक द्वारा आपके ऊपर कोई केसीसी ऋण नहीं है।

Spread the love

Lakhan singh

Professional article writer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *