लालच में बेच दिए अनोखे नोट तो हो जाएगी बड़ी दिक्कत, Unique Note सेलिंग से पहले जान लीजिए RBI के यह नियम

आजकल मार्केट में पुराने नोट और सिक्कों को बेचने का ट्रेंड चल रहा है जिसमें ग्राहकों को इनके बदले लाखों रुपए की कमाई हो रही है। इन अनोखे नोटों में सबसे प्रचलित 786 नंबर का नोट है जिसे मुस्लिम समुदाय में पवित्र माना जाता है और इससे लोग लाखों रुपए देकर खरीदने के लिए तैयार हैं। लेकिन आरबीआई ऐसे अनोखे नोट की सेलिंग को कानूनी तरीके से गलत मानता है जिसमें आपको आगे चलकर बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

यह सच है कि कोई भी समुदाय या व्यक्ति अपनी पसंद के अनुसार नोट खरीद सकता है लेकिन आरबीआई द्वारा जारी किए गए वास्तविक मूल्य से यदि उसका दाम अधिक मिलता है तो यह कानूनी रूप से गलत होगा। चलिए जानते हैं यूनिक नोट सेलिंग( Unique Note Selling) पर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कौन से नए नियम बनाए हैं।

अनोखे और पुराने नोटों को बेचना कानूनी तौर पर गलत

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा हर नोट को एक निश्चित मूल्य दाम पर जारी किया गया है जिसे बाजारों में वास्तविक दाम पर ही लिया जाता है लेकिन आजकल बढ़ते ट्रेंड के चलते बहुत सारे लोग कुछ अनोखे नोटों को लाखों रुपए में खरीदने के लिए तैयार हैं लेकिन वास्तव में यह कानूनी रूप से गलत है। भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI) ने भारत में एक करेंसी लागू की हुई है जिस के अनुरूप हर नोट को मौद्रिक रूप से अलग कीमत प्रदान किया गया है ऐसे में जब नोट की वास्तविक कीमत से यदि अधिक कीमत मिलती है तो यह आरबीआई के नियमानुसार नियमों के विरुद्ध है।

लाखों रुपए में बिक रहे 786 नंबर के अनोखे नोट

इसके बावजूद कुछ व्यक्ति अभी भी संग्रहणीय वस्तु के रूप में इन नोटों के लिए प्रीमियम का भुगतान करने को तैयार हो सकते हैं। 786 के नोट की कीमत उसकी स्थिति और पसंद के आधार पर भिन्न हो सकती है। कुछ विक्रेता एक नोट के लिए 5 से 10 लाख रुपये तक की मांग कर सकते हैं। ऐसे में इन 786 नंबर वाले नोटों को कहीं ऑनलाइन वेबसाइट पर ग्राहक लाखों रुपए की कीमत के साथ खरीद रहे हैं ऐसे में निश्चित रुप से लालच के तौर पर लोग जाली नोटों का व्यापार करते हुए उनके अधिक मूल्य पर बिकने के लिए आरबीआई के कानूनी नियमों को तोड़ेंगे। इसलिए पुराने और अनोखे नोटों की बिक्री कानूनी तौर पर गलत मानी जाती है।

RBI के नियम में लाखों में नहीं बिक सकते नोट

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने कहा है कि इन नोटों को उनके अंकित मूल्य से अधिक के लिए नहीं बदला जा सकता है और उन्हें निवेश के रूप में एकत्र करना उचित नहीं है। इसके अतिरिक्त RBI ने नकली नोटों के खिलाफ भी चेतावनी दी है जो 786 नंबर के साथ प्रचलन में हो सकते हैं। इसलिए 786 के नोटों को खरीदते या बेचते समय सतर्क रहना और केवल प्रतिष्ठित स्रोतों से ही व्यवहार करना महत्वपूर्ण है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *