Pm Kisan Yojana: पीएम किसान योजना में ₹2000 की जगह किसानों को मिलेंगे ₹8000, ऐसे करें आवेदन

1 फरवरी 2023 को भारत का बजट पेश होने जा रहा है जिसमें इस बार विशेष तौर पर किसानों को फायदा मिल सकता है। वर्ष 2023 के बजट में प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना की धनराशि बढ़ाने के साथ-साथ सरकार सम्मान निधि में किसानों की संख्या और कुछ नए नियम लागू कर सकती है। जहाँ पिछले दिनों राज्य सरकारों द्वारा किसानों के हित में कुछ नई योजनाएं चालू की गई थी उसी को देखते हुए केंद्र सरकार वर्ष 2023 के बजट में प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना की राशि ₹6000 से बढ़ाकर ₹8000 कर सकती हैं। ऐसे नहीं अभी आप प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना के लिए पात्र हैं तो जल्द ही सरकार के आधिकारिक वेबसाइट से आवेदन कर सकते हैं।

किसानों को वर्ष 2023 में मिलेगी ₹8000 पेंशन

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को भारत का बजट पेश करने जा रही है जिसमें प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना में किसानों को दी जा रही पेंशन ₹2000 बढ़ाकर ₹8000 की जा सकती है। हालांकि सरकार द्वारा अभी धनराशि बढ़ाने पर कोई आधिकारिक निर्णय नहीं दिया गया है लेकिन बजट जारी होने से पहले सरकार इस पर मंथन करेगी। यदि प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना की धनराशि ₹8000 होती हैं तो लाभार्थी को 1 वर्ष में प्रति 2 माह के अंतराल में ₹2000 की राशि पेंशन के रूप में दी जा सकती है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की किस्त

प्रधानमंत्री सम्मान निधि में नए बदलाव करने से पहले सरकार किसानो के अकाउंट में 13 वी किस्त क्रेडिट करेगी जो संभावित रूप से जनवरी के अंत में सभी किसानों के खाते में क्रेडिट हो सकती हैं। हालांकि इस किस्त को अकाउंट में ट्रांसफर करने से पहले सरकार ने प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों को ईकेवाईसी करवाने के आदेश दिए हैं, ऐसे में यदि जो किसान प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना के लिए ईकेवाईसी नहीं करवाते हैं तो उनके अकाउंट में 13 वी किस्त ट्रांसफर नहीं होगी।

प्रधानमंत्री सम्मान निधि का करें स्टेटस चेक

ऐसे में यदि आप सरकार द्वारा क्रेडिट की जा रही पेंशन का स्टेटस देखना चाहते हैं तो प्रधानमंत्री सम्मान निधि की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर आप अपने प्रधानमंत्री सम्मान निधि के अकाउंट को मैंने कर पाएंगे जहां से आप किस्त का स्टेटस भी चेक कर सकेंगे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *