Gold loan kaise le(how to take gold loan)

आज की दुनिया में हर किसी को अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए पैसे की जरूरत होती हैं लेकिन कई ऐसे लोग हैं जिनके पास व्यवसाय शुरू करने के लिए पर्याप्त पूंजी उपलब्ध नहीं रहती हैं इसलिए उन्हें किसी ना किसी प्रकार के लोन की आवश्यकता होती है. इसी प्रकार आज की पोस्ट में हम आपको गोल्ड लोन कैसे लेते हैं इसके बारे में जानकारी प्रदान करेंगे ताकि आप किसी भी प्रकार के लोन के लिए परेशान ना हो.

गोल्ड लोन क्या है ?

कई लोगों को अभी तक यह नहीं पता ही की गोल्ड लोन आखिर होता क्या है. गोल्ड लोन(gold loan) एक प्रकार का लोन है जिसमें हम अपने आभूषण या सोना गिरवी रखकर उससे गारंटी के तौर पर किसी भी माध्यम से लोन ले सकते हैं. सरल भाषा में अगर समझाया जाए तो गोल्ड लोन में आप जिस भी माध्यम से लोन ले रहे हैं उसके पास गारंटी या सबूत के तौर पर आपको अपना गोल्ड रखना पड़ता है ताकि वह बेफिक्र होकर आपको गोल्ड लोन प्रदान कर सके. गोल्ड एक अधिक मूल्य की धातु है जिस के तौर पर बैंक या गोल्ड लोन देने वाला कोई भी माध्यम आपको लोन प्रदान करता है. यह जरूरी नहीं है कि वह आपका गोल्ड लेकर बेच देगा इसके लिए विशेष तौर पर स्टांप और nominee( गवाह) रखे जाते हैं. गोल्ड लोन 100% सिक्योर लोन होता है इसलिए इस में लगने वाली ब्याज दर भी काफी कम होती है.

Gold loan कैसे ले सकते हैं (How to take gold loan)


गोल्ड लोन सत प्रतिशत secure होने के कारण इससे लोन लेने में काफी कम समय लगता है और इसकी प्रक्रिया काफी कम समय में पूरी हो जाती हैं. गोल्ड लोन आपके पास मौजूद सोना या भूषण की क्वालिटी और गुणवत्ता के आधार पर दिया जाता है जिसे गोल्ड की मार्केट वैल्यू कहते हैं. यदि गोल्ड की मार्केट वैल्यू को सामान्य तौर पर देखा जाए तो मार्केट वैल्यू के 75% तक यह आसानी से मिल जाता है.
1.Gold loan लेने के लिए आपको अपने नजदीकी बैंक या एनबीएफसी मैं जाकर अपने साथ अपने सोने के आभूषण या सोना ले जाना पड़ता है.
2.इसके बाद बैंक या एनबीएफसी में मौजूद प्रोफेशनल सुनार आपके गोल्ड की गुणवत्ता और वजन के अनुसार उसी दिन की मार्केट वैल्यू निकालते हैं.
3.बहुत सी बैंकों और एनबीएफसी कम्युनिटी ने अब घर-घर जाकर लोन देने का प्रावधान शुरू कर दिया है जिसकी वजह से आम जनता को कोई भी परेशानी नहीं आती है.
4.आपके गोल्ड की मार्केट वैल्यू को जांचने के बाद बैंक या एनबीएफसी आपसे एक फॉर्म form fill up करवाएंगे जिसमें आपसे आपकी सामान्य जानकारी पूछी जाएगी.जानकारी भरने के बाद आपसे stamp लिखवाया जाएगा जिसमें आपको अपने गोल्ड की गारंटी बैंक या एनबीएफसी के पास देने की पुष्टि करनी होगी

5.इसी तरह कुछ विशेष सुरक्षा प्रावधानों को ध्यान रखते हुए आपसे एक nominee( गवाह) रखने के लिए कहा जाएगा जिसमें आप अपने परिवार के किसी भी सदस्य या अपने दोस्त को रख सकते हैं.

6.यह पूरी secure process है जिसमे आपको अपने gold की सुरक्षा दी जायेगी.

7.पूरी प्रक्रिया होने के बाद अपना गोल्ड गारंटी के तौर पर बैंक या एनबीएफसी में जमा करना होगा. जिसके तुरंत बाद आपको आपकी लोन की राशि गोल्ड मार्केट वैल्यू के अनुसार मिल जाएगी

Goal loan के लिए आवश्यक दस्तावेज ( Documents for taking gold loan)

  1. आधार कार्ड (adhar card)
  2. पेनकार्ड ( pancard)
  3. बैंक स्टेटमेंट (bank statement)
  4. आय संबंधित दस्तावेज( कुछ बेंको या एनबीएफसी में)

कैसे निकाली जाती है आपके gold की मार्केट वैल्यू

गोल्ड लोन लेने से पहले किसी भी संस्थान में सबसे पहले आपके गोल्ड की मार्केट वैल्यू जांची जाती है जिसके अनुसार आप को लोन मिलता है. इस पूरी प्रोसेस में बैंक या एनबीएफसी में मौजूद सुनार सबसे पहले आपके गोल्ड का वजन करता है उसके बाद उसी दिन के गोल्ड मार्केट वैल्यू के अनुसार आपको लोन दिया जाता है. सुनार के साथ-साथ वहां आप और बैंक या एनबीएफसी के अधिकारी भी मौजूद रहते हैं जिसमें किसी भी तरह की धोखाधड़ी होने के चांस नहीं है. गोल्ड की मार्केट वैल्यू हर दिन के अनुसार बदलती रहती है इसीलिए आप जिस दिन अपने गोल्ड को लेकर जाते हैं आपको लोन उसी वैल्यू के हिसाब से मिलेगा.

Gold loan पर ली जाने वाली ब्याज दर

अलग-अलग बैंक व एनबीएफसी गोल्ड लोन पर तरह तरह का ब्याज लगाते हैं. यह इसके ऊपर निर्भर रहता है कि आपने गोल्ड लोन कितने रुपए का लिया है. यदि आप कम लोन राशि लेते हैं तो आप से ब्याज दर भी उसी के अनुसार ली जाती हैं और यदि आप अधिक लोन राशि लेते हैं तो ब्याज की दर भी थोड़ी सी ज्यादा चुकानी पड़ती हैं. हालांकि गोल्ड लोन की ब्याज दर अन्य सभी लोगों से कम होती है क्योंकि इसमें गारंटी के तौर पर आपका सोना रखा जाता है.
किसान गोल्ड लोन स्कीम के अनुसार यदि कोई किसान गोल्ड लोन लेता है तो उससे ब्याज दर भी कम ली जाती हैं और सरकारी सब्सिडी भी दी जाती है.

Gold loan कितने प्रतिशत पर मिलता है ?

सामान्यतः देखा जाए तो आप के आभूषण और गोल्ड की 75%-90% आपके गोल्ड की शुद्धता और गुणवत्ता के आधार पर मिलता है. यह बैंक या एनबीएफसी तय करती हैं.

Gold loan किस किस को मिल सकता है ?

  1. आप RBI द्वारा डिफाल्टर(दोषी, दिवालिया)नहीं होने चाहिए
  2. आपका सिविल स्कोर बैंक या एनबीएफसी के आधार पर होना चाहिए
  3. यदि आप अधिक गोल्ड राशि लेते हैं तो चुकाने की गारंटी होनी चाहिए
  4. आपकी गोल्ड ज्वेलरी(18, 20,22) कैरेट के अनुसार होनी चाहिए
  5. आप की ज्वेलरी में नग, टांके या अन्य धातु का प्रयोग कम होना चाहिए
  6. बैंक या एनबीएफसी के अनुसार आपके दस्तावेज सही होने चाहिए
  7. किसान गोल्ड लोन स्कीम के तहत आपके पास खेती और अन्य दस्तावेज मौजूद होने चाहिए

Gold loan लेने मे चार्ज या शुल्क

गोल्ड लोन लेने में आपको सबसे पहले वैल्यूएशन फीस देनी पड़ती है यह राशि गोल्ड लोन मिलने से पहले चुकानी पड़ती है. उसके बाद बैंक या एनबीएफसी आपसे प्रोसेसिंग फीस ले सकती हैं यह आमतौर पर कम होती हैं. गोल्ड लोन के लिए डॉक्यूमेंट की वैधता के लिए अलग-अलग राज्यों में तरह-तरह के स्टांप चार्ज लगते हैं जो आपको स्टांप विक्रेता या वकील को चुकाना पड़ता है.

Gold loan लेने के फायेदे

  1. गोल्ड लोन की प्रक्रिया काफी सर कम समय में पूरी हो जाती है
  2. इसमें दस्तावेजों की आवश्यकता कम पड़ती है
  3. आप कभी भी समय थोड़ी फीस देकर अपने गोल्ड को शादी समारोह के लिए बैंक या एनबीएफसी से ले सकते हैं
  4. इसकी ब्याज दर अन्य लोन से काफी कम है
  5. यह काफी सुरक्षित प्रक्रिया है जिसमें लोन लेने वाले व्यक्ति को किसी भी प्रकार की अन्य संस्थान में जाने की जरूरत नहीं है

Gold loan लेने के नुकसान

  1. लोन समय पर ना जमा करने पर आप पर 2% अधिक ब्याज लगा दिया जाता है यह ब्याज 15 दिन की वार्निंग के बाद लगाया जाता है
  2. यदि आपका गोल्ड लोन npa हो जाए तो उससे आपके सिबिल स्कोर पर प्रभाव पड़ेगा
Spread the love

Lakhan singh

Professional article writer

Leave a Reply

Your email address will not be published.