बिना इंटरनेट के भी कर सकते हैं अब से यूपीआई पेमेंट, जाने कैसे करता है काम

Upi Payment Latest Update: भारत में यूपीआई को 2016 में लॉन्च किया गया था। उसके बाद से अब तक यूपीआई के जरिए ट्रांजैक्शंस में कई गुना तेजी आई है। जब से लेनदेन में फोन पे, पेटीएम जैसे एप्स का इस्तेमाल बढ़ा है लोगों ने अपने साथ केश रखना छोड़ दिया है। आज के वक्त में गली मोहल्ले की कोई छोटी सी किराने की दुकान हो या शहर का कोई बड़ा मॉल, सब जगह पेमेंट के लिए अधिकतर ऑनलाइन यूपीआई मोड का यूज किया जाता है। आजकल किसी भी छोटी बड़ी फल सब्जी की दुकान पर भी आपको ऑनलाइन पेमेंट के द्वारा भुगतान के लिए क्यूआर(QR) कोड देखने को मिल जाता है।

आमतौर पर ऑनलाइन पेमेंट के लिए इंटरनेट कनेक्शन की अनिवार्यता होती है। कुछ विशेष परिस्थितियों में ऑनलाइन पेमेंट करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। ऐसी परिस्थितियों मे यूपीआई पेमेंट के लिए NPCI ने UPI Lite सर्विस की शुरुआत की। ऑफलाइन यूपीआई पेमेंटस के लिए ‘आॅन-डिवाइस वाॅलेट’ का उपयोग कर सकते हैं।

यूपीआई लाइट वॉलेट कैसे काम करता है


यूपीआई लाइट BHIM यूपीआई एप पर सपोर्ट करता है। इससे पेमेंट के लिए यूपीआई पिन डालने की जरूरत नहीं पड़ती। इसका उपयोग यूज़र पैसा भेजने व रिसीव करने के लिए कर सकता है। इस वॉलेट में एक लिमिट राशि की ट्रांजैक्शन की जा सकती है। यूपीआई लाइट वॉलेट की टोटल लिमिट ₹2000 से कभी ऊपर नहीं जानी चाहिए। कोई यूजर एक समय में अधिकतम ₹200 तक का ट्रांजैक्शन कर सकता है। हालांकि रोजाना लेनदेन को लेकर कोई लिमिट नहीं है। एक बार ₹2000 यूज कर लेने के बाद आप उसी दिन में अपनी जरूरत के अनुसार 2-2 हजार रुपये ऐड कर सकते हैं।

क्योंकि यह एक वॉलेट की तरह काम करता है तो आपको इंटरनेट से कनेक्ट होकर इसे पैसे डालने होंगे उसके बाद अब किसी भी स्थिति मे यूपीआई लाइट वॉलेट से लेन-देन कर सकेंगे। बिना इंटरनेट की परिस्थिति में जिस व्यक्ति को पैसा भेजा जा रहा है, उसके पास इंटरनेट होना जरूरी है। अन्यथा सामने वाले व्यक्ति के इंटरनेट से कनेक्ट होने के बाद उसे उसके पैसे मिल जाएंगे। NPCI इस खामी को दूर करने के लिए रिसर्च एंड डेवलपमेंट पर काम कर रहा है।

किन बैंकों के ग्राहकों को मिलेगा इसका लाभ


यूपीआई लाइट फीचर अभी सिर्फ भीम एप यूज़ करने वालों के लिए शुरू है। वर्तमान में कुल आठ बैंक इस फीचर को सपोर्ट कर रहे हैं। इन बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक, इंडियन बैंक, केनरा बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक व उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस बैंक शामिल है। आने वाले समय में अन्य बैंक भी अपने ग्राहकों तक यह सुविधा पहुंचाएंगे।

Spread the love

Lakhan singh

Professional article writer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *