5 साल में आने वाला यह खिलाडी कप्तान कह लाएगा

क्रिकेट में उतार चढाव काल किसी भी देश के क्रिकेट बोर्ड के लिए महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि यह टीम के प्रदर्शन को बहुत प्रभावित कर सकता है। कई बोर्डों ने इस युग को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए संघर्ष किया है, जिसके परिणामस्वरूप उनकी टीमों के लिए प्रतिकूल परिणाम सामने आए हैं। स्थिरता और निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए, क्रिकेट बोर्डों के लिए दीर्घकालिक योजना होना अनिवार्य है। इस योजना का एक आवश्यक पहलू भविष्य के कप्तानों को तैयार करना है। इस लेख में, हम ठोस विकल्पों वाले देशों पर विचार करते हुए पांच साल बाद शीर्ष क्रिकेट खेलने वाले देशों के लिए संभावित कप्तानों का पता लगाते हैं।

भारत – शुभमन गिल (सभी फॉर्मेट)

भारत के मामले में विराट कोहली की जगह लेने के लिए उपयुक्त कप्तान की तलाश चर्चा का विषय रही है। जहां ऋषभ पंत, श्रेयस अय्यर और जसप्रीत बुमराह संभावित दावेदार हैं, वहीं शुभमन गिल एक मजबूत विकल्प के रूप में उभरे हैं। एक पीढ़ीगत प्रतिभा के रूप में गिल के पास सभी प्रारूपों में टीम का नेतृत्व करने के लिए आवश्यक कौशल और स्वभाव है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) उन्हें इस जिम्मेदारी के लिए तैयार करने पर ध्यान दे सकता है।

पाकिस्तान – शाहीन अफरीदी (सभी फॉर्मेट)

एक सक्षम कप्तान के लिए पाकिस्तान की तलाश उन्हें शाहीन अफरीदी तक ले जा सकती है। अगर बाबर आज़म अगले एक साल में पाकिस्तान को एक बड़े खिताब के लिए मार्गदर्शन करने में विफल रहता है, तो अफरीदी को उम्मीद से पहले कप्तानी सौंपी जा सकती है। उनकी उम्र को देखते हुए, अफरीदी कप्तान के रूप में एक लंबे कार्यकाल का आनंद ले सकते थे, और उपलब्ध सीमित विकल्पों को देखते हुए, वह एक संभावित विकल्प के रूप में सामने आते हैं। हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि शादाब खान को सीमित ओवरों के फॉर्मेट में नेतृत्व के कर्तव्यों के लिए प्राथमिकता दी जा सकती है, जबकि अफरीदी टेस्ट में कमान संभाल सकते हैं।

इंग्लैंड – सैम करन (वनडे और टी20) और हैरी ब्रूक (टेस्ट)

इंग्लैंड वर्तमान में सभी प्रारूपों में एक स्थिर कप्तानी का दावा करता है। हालांकि, सफेद गेंद के प्रारूप में, 2023 एकदिवसीय विश्व कप के बाद एक वैकल्पिक विकल्प की मांग की जा सकती है। सैम करन का नाम चर्चा का हिस्सा हो सकता है, हालांकि वह तुरंत कप्तानी नहीं संभाल सकते हैं। टेस्ट में, हैरी ब्रूक एक संभावित विकल्प हो सकते हैं यदि वह अपनी बल्लेबाजी से प्रभावित करना जारी रखते हैं और U19 विश्व कप टीम की कप्तानी करने के अपने अनुभव को आगे बढ़ाते हैं।

ऑस्ट्रेलिया – मार्नस लाबुशेन (वनडे और टेस्ट) और कैमरून ग्रीन (टी20)

ऑस्ट्रेलिया के लिए, Marnus Labuschagne पैट कमिंस के लिए एक उपयुक्त उत्तराधिकारी प्रतीत होता है, विशेष रूप से ODI और टेस्ट प्रारूपों में, संभवतः ICC विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के अगले चक्र के बाद। T20Is में, ऑस्ट्रेलिया को कप्तानी विकल्पों की कमी का सामना करना पड़ता है। इसलिए, कैमरन ग्रीन जैसी युवा प्रतिभा को तैयार करना, जिसकी उम्र उसके पक्ष में है, भविष्य की नेतृत्व क्षमताओं को विकसित करने के लिए एक रणनीतिक कदम हो सकता है।

श्रीलंका – चरिथ असलंका (सभी फॉर्मेट)

आने वाले वर्षों में संभावित कप्तान के लिए श्रीलंका की खोज उन्हें चरिथ असलंका तक ले जा सकती है। जबकि दासुन शनाका ने सफेद गेंद के क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन किया है, अब से पांच साल बाद उन्हें नेतृत्व की भूमिका में देखना चुनौतीपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, दिमुथ करुणारत्ने पहले ही कप्तान के रूप में पद छोड़ने की इच्छा व्यक्त कर चुके हैं। असलंका, एक प्रतिभाशाली बल्लेबाज, ने अपने अब तक के प्रदर्शन में परिपक्वता प्रदर्शित की है, जिससे वह सभी प्रारूपों में श्रीलंका की कप्तानी के लिए एक व्यवहार्य विकल्प बन गया है।

भविष्य के लिए योजना बनाना क्रिकेट बोर्ड के लिए महत्वपूर्ण है, और संभावित कप्तानों को तैयार करना एक सुचारु परिवर्तन सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शीर्ष क्रिकेट खेलने वाले देशों के संदर्भ में, उपयुक्त उम्मीदवारों की पहचान करना आवश्यक है, जिनके पास आवश्यक कौशल, स्वभाव और नेतृत्व गुण हैं। हालांकि ये भविष्यवाणियां अटकलें हैं, वर्तमान परिस्थितियों और खिलाड़ियों के प्रदर्शन के आधार पर, वे पांच साल बाद प्रत्येक देश के संभावित कप्तानों में एक दिलचस्प झलक पेश करते हैं। यह देखना दिलचस्प होगा कि ये युवा प्रतिभाएँ कैसे विकसित होती हैं और क्या वे अंततः अपनी-अपनी टीमों के लिए कप्तानी की बागडोर संभालती हैं।

Spread the love

Leave a Comment